Awaz Jana Desh | awazjanadesh.in
अंतरार्ष्ट्रीय

पाँच में से तीन बाढ़ सुरक्षा परियोजनाएँ हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में…

जलशक्ति मंत्रालय से ₹2167.72 करोड़ की हिमाचल में पांच बाढ़ सुरक्षा परियोजनाओं की माँग: अनुराग ठाकुर

शिमला: केंद्रीय सूचना प्रसारण एवं खेल व युवा कार्यक्रम मंत्री श्री अनुराग सिंह ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत जी से मिलकर हिमाचल प्रदेश में लगभग 2167.72 करोड़ रुपये की लागत से पांच बाढ़ सुरक्षा परियोजनाओं की माँग की है।

श्री अनुराग ठाकुर ने कहा” आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने हिमाचल प्रदेश को सदैव अपना दूसरा घर माना है और हिमाचल की आवश्यकतानुसार हर ज़रूरी परियोजनाओं को मंज़ूरी दी है। पहाड़ी प्रदेश हिमाचल में दैवीय आपदा के चलते हर बरसातों में बाढ़ आम बात है जिसके चलते हर साल काफ़ी जान-माल का नुक़सान होता है। इसको दृष्टिगत रखते हुए मैंने केंद्रीय जलशक्ति मंत्री श्री गजेंद्र शेखावत जी से मिलकर उनके समक्ष इस विषय को प्रमुखता से उठाते हुए हिमाचल में ₹2167.72 करोड़ की लागत से हिमाचल में पांच बाढ़ सुरक्षा परियोजनाओं की माँग प्रमुखता की है। केंद्र की मोदी सरकार व प्रदेश की जयराम सरकार हिमाचल के चहुंमुखी विकास के लिए कटिबद्ध है“

आगे बोलते हुए श्री अनुराग ठाकुर ने कहा “ जल शक्ति मंत्रालय द्वारा हिमाचल में पाँच में से तीन बाढ़ सुरक्षा परियोजनाएँ की माँग मैंने अपने हमीरपुर संसदीय क्षेत्रमें की है। हिमाचल में बाढ़ सुरक्षा परियोजनाएँ में से प्रमुखता से फिना सिंह बहुउद्देशीय परियोजना जोकि 643.68 करोड़ रुपये की लागत से होगी वह 1.88 मेगावाट बिजली का उत्पादन करेगी। मण्डी जिले में ब्यास जलग्रहण क्षेत्र के अंतर्गत सुकेती खड्ड नदी के साथ-साथ उसकी सहायक नदियों पर बाढ़ सुरक्षा उपाय और नहर निर्माण परियोजना शुरू की जानी है। इस परियोजना से 41 हजार से अधिक लोगों को लाभ होगा और 881 हेक्टेयर क्षेत्र संरक्षित होगा। इस परियोजना पर कुल 485.23 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। इसी प्रकार, ऊना जिले की अम्ब तहसील में स्वां नदी और उसकी सहायक नदियों के लिए बाढ़ सुरक्षा उपाय प्रदान करने की परियोजना से 14 हजार से अधिक लोगों को लाभ होगा और 510 हेक्टेयर क्षेत्र संरक्षित होगा। इस पर परियोजनाओं पर 339.25 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। तीसरी परियोजना बाढ़ सुरक्षा और विभिन्न खड्डों के लिए कटाव रोकने के उपाय हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में किए जाएंगे तथा इससे 23 हजार से अधिक लोगों को लाभ होगा और 811 हेक्टेयर क्षेत्र संरक्षित होगा। इस परियोजना पर 504.07 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।

अंत में, सीर खड्ड पर बाढ़ सुरक्षा कार्यों पर 195.49 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है और इसे बिलासपुर जिले के घुमारवीं तहसील के तलवारा गांव से बालघाट तक किया जाएगा। इस परियोजना से 14 हजार से अधिक लोगों को लाभ होगा और 179 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र संरक्षित होगा”

 

श्री अनुराग ठाकुर ने कहा “ पूर्व में जनमानस की माँग और क्षेत्र के विकास को देखते हुए साल 2000 में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री प्रेम कुमार धूमल जी ने केंद्र में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी से स्वां नदी के तटीयकरण के लिए के लिए 106 करोड़ रुपए आवंटित करा कर इस परियोजना की शुरूआत करी,जिसके अंतर्गत मुख्यतः स्वां नदी के साथ 77 सहायक नदियों के तटीयकरण करना इस परियोजना का उद्देश्य था,जिसमें केंद्र और राज्य की क्रमशः 90% और 10% ख़र्च की हिस्सेदारी थी। स्वां तटीयकरण से अब तक करीब 12000 हेक्टेयर भूमि ज़िला ऊना में कृषि योग्य बनाई गई है ,जिससे किसानों को राहत मिली है । अब यह मौजूदा माँग राज्य में नदी की बाढ़ से जान-माल की क्षति को कम करने में एक लंबा सफर तय करेगी। मोदी सरकार हिमाचल प्रदेश के लोगों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है और यह उस दिशा में उठाए गए कई कदमों में से एक है”

Related posts

पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बेटे तारिक रहमान सहित 19 लोगों को उम्रकैद की सजा

Master@Admin

श्री कृष्णा आयुष विश्वविद्यालय में आधुनिक हाई प्रेशर थिन लेयर क्रोमेटोग्राही कार्यशाला का आयोजन….

Editor@Admin

हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल ने खोला नौकरियों का पिटारा,3000 बढ़ी छात्रा वृति

Editor@Admin

Leave a Comment