Awaz Jana Desh | awazjanadesh.in
खबरें राष्ट्रीय शिक्षा

विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सत प्रकाश बंसल ने किया।कार्यक्रम की शरूआत…

प्रैस विज्ञप्ति

10-08-2022 पंचनंद शोध संस्थान,अध्ययन केन्द्र शिमला, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय व भाषा एवं संस्कृति अकादमी हिमाचल प्रदेश के संयुक्त तत्वाधान में ‘लोक परंपराओं में भारत बोध’ संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस संगोष्ठी का शुभारंभ हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सत प्रकाश बंसल ने किया।कार्यक्रम की शरूआत सरस्वती माता को दीप प्रज्वलित कर किया गया। तत्पश्चात विश्वविद्यालय के कुलगीत का गान किया गया।

इस अवसर पर गणमान्य व्यक्तियों को शाल, टोपी व श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। पंचनंद शोध संस्थान शिमला के अध्यक्ष प्राचार्य डॉ मनु सुद ने संगोष्ठी में सम्मिलित विशेष अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में श्री जे. नंद कुमार द्वारा लिखित पुस्तक ‘ लोक बियोंड फोक’ का विमोचन किया गया। इस संगोष्ठी में माननीय कुलपति आचार्य सत प्रकाश जी ने कहा कि हम जाने अंजाने में लोक परंपराओं के बारे में अवश्य ही बात करते हैं। इस तरह के लोक मंथन हमारी परंपराओं व लोक संस्कृति पर प्रकाश डालने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। हमारे राष्ट्र भारत में विविध खान पान, पहनावे होते हुए भी हम सभी को हमारी लोक परंपराओं ने हमारे राष्ट्र को एक सुत्र में बंधे रखा है। राष्ट्र शिक्षा इस दिशा में एक ऐसा नया कदम है जिसमें आत्मनिर्भर भारत ही एक मंत्र है। शिक्षाविद होने के नाते हम सभी का यह कर्तव्य है की इस राष्ट्र शिक्षा नीति को हम इस तरह कार्यन्वित करें ताकि भारत पुनः विश्वगुरु की पदवी पर विराजमान हो।

पंचनंद शोध संस्थान पंचकूला के अध्यक्ष प्राचार्य डाॅ.बी. के कुठियाला जी ने इस अवसर पर कहा कि संवाद समाज के मन को दर्शाता है। इस संवाद को उस दिशा में ले जाना चाहिये जो मानव और विश्व के हित में हो। संवाद को सुसंवादित बनाना पंचनंद शोध संस्थान जैसे संस्थान करते हैं । पंचनंद शोध संस्थान उत्तर भारत के पाच राज्यों में काम कर रहा है और इसके 42 केन्द्र हैं।इसका पहला मंथन भोपाल में हुआ, तत्पश्चात दूसरा रांची में हुआ और अब तीन दिवसीय मंथन सितंबर माह में गोहाटी में होने जा रहा है।उन्होंने कहा कि भारत सर्व श्रेष्ठ देश ‘ सोने कि चिड़िया’ के नाम से जाना जाता था यह भी हमारी लोक परंपराओं व गाथाओं में आज भी जिंदा है। पंचनंद शोध संस्थान जैसे संस्थान इस दिशा में समाज को सुसंवादित करने में सदा प्रयत्नशील हैं।

जारी कर्ता

पंचनद शोध संस्थान अध्ययन केन्द्र,शिमला।

Related posts

हिमाचल प्रदेश में आउटसोर्स पर नियुक्त कर्मचारियों के मसले पर राज्य सरकार गंभीर

Editor@Admin

भाजपा के पास एकीकृत नेतृत्व : नंदा…

Editor@Admin

मुख्यमंत्री ने बाढ़ प्रभावित थुनाग क्षेत्र का दौरा कर राहत कार्यो में तेजी लाने के निर्देश दिए….

Editor@Admin

Leave a Comment