Awaz Jana Desh | awazjanadesh.in
अंतरार्ष्ट्रीय

नियंत्रक, रक्षा लेखा विभाग के पद से सेवानिवृत्त हुए डी आर नेगी को हिमाचल ने दी बधाई

*आवाज़ जनादेश/प्रधान कार्यालय*

आईडीएएस, रक्षा लेखा विभाग (पश्चिमी कमान) चंडीगढ़ के प्रधान नियंत्रक, रक्षा लेखा विभाग में 34 वर्ष पूरे करने के बाद शुक्रवार को डी.आर.नेगी सेवानिवृत्त हो गए। उनका जन्म जिला किन्नौर के पूह गांव में हुआ ।
किन्नौर हिमाचल प्रदेश के सबसे कठिन इलाकों में से एक है। मैट्रिक तक की पढ़ाई अपने गांव के गवर्नमेंट हाई स्कूल पूह से पूरी करने बाद राजकीय डिग्री कॉलेज संजौली शिमला से प्रि-यूनिवर्सिटी कक्षा उत्तीर्ण की 1983 में स्नातकोत्तर (बीए-ऑनर्स इन इको) राजकीय डिग्री कॉलेज सोलन उतीर्ण करने के बाद नेगी ने इको में मास्टर्स करने लिए पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ चले गए लेकीन इस बीच ही उनकी स्टेट बैंक ऑफ़ पटियाला तथा स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में पी.ओ. के पद के लिए न्युक्ति हो गई।
बैंक में कुछ साल बिताने के बाद, उन्होंने यूपीएससी परीक्षा पास करने के बाद सन 1988 में रक्षा लेखा विभाग में सहायक नियंत्रक के पद के लिए चुने गए।
नेगी हिमाचल प्रदेश के जनजातीय क्षेत्र के पहले आईडीएएस अधिकारी हैं, जो अब तक पीसीडीए के पद तक पहुंचे हैं और मध्य वायु कमान इलाहाबाद के एओसी-इन-सी के वित्तीय सलाहकार के साथ-साथ जीओसी-इन के वित्तीय सलाहकार जैसे कई महत्वपूर्ण प्रभार संभाले हैं। पीसीडीए (उत्तरी कमान) के अलावा पश्चिमी कमान, चंडीमंदिर के सी. वर्तमान में, वह सितंबर 2019 से पीसीडीए (डब्ल्यूसी) का प्रभार संभाल रहे थे। उन्होंने एशियाई प्रौद्योगिकी संस्थान, बैंकॉक के साथ-साथ रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, लंदन में भी कुछ पाठ्यक्रम का अध्यन किया ।
सेवानिवृत्त होने के दौरान कहा कि मैं अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदारों और पूरे विभाग को अपने करियर को खुश और सफल बनाने के लिए दिए गए प्यार,स्नेह और समर्थन के लिए धन्यवाद करता हूं । जिनकी सहयोग से यहाँ तक पहुँच सका हूँ। वहीं दूसरी ओर आवाज़ जनादेश से बात चीत के दौरान उनके चचेरे भाई चन्द्र चीला नेगी ने कहा कि भाई बचपन से मेहनती,शांत व सरल सभाव के व्यक्ति थे। उनकी सोच हमेशा दूरगामी व ऊंची उड़ान भरने की रही है ।जिससे उन्होंने अपनी मेहनत और लग्न से हांसिल कर दिखया है । भाई युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन गए है ,बिना ज्जवे के एक मिडिल क्लास परिवार से यहां पहुँचना बहुत कठिन होता है। ये उनकी मेहनत और ईमानदारी का नतीजा है जो इतने बड़े पद से आज सहर्ष सेवानिवृत्त हुए है।
मै उनके भावी स्वस्थ जीवन की प्रभु से प्रार्थना करता हूँ तथा उन्हें यहाँ तक के सफल जीवन के सफर को पूरा करने की बधाइयां देता हूं । हमें उन पर नाज हैं और रहेगा।
वही स्थानीय जनता ने भी नेगी को बधाइयां दी है तथा उनके चाहने वालों और जानपहचान वालो के बीच नेगी की चर्चाएं भी जोरो पर है लोगो का कहना है कि इतनी सफलताए एक साधारण व्यक्ति पूरी नही कर सकता।
हिमाचल ऐसे मेहनती अधिकारी पर नाज करता है।

Related posts

चीन ने अपने रक्षा बजट में साढ़े 7 प्रतिशत की वृद्धि की

Master@Admin

Syria से ‘ईरान के हर रंगरुट को निकालने’ में सहयोग करेगा अमेरिका

Master@Admin

मुख्यमंत्री जयराम ने यूक्रेन में फंसे छात्रों से की बात, दिया मदद का भरोसा

Editor@Admin

Leave a Comment