Awaz Jana Desh | awazjanadesh.in
खबरें जॉब / कैरियर राष्ट्रीय

2025 तक इलेक्ट्रिक वाहनों का हब बनेगा हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश एक पहाड़ी राज्य है, जहां की नैसर्गिक सुंदरता सभी को अपनी ओर खिंचती है। यहां की आबोहवा को स्वच्छ रखने की दृष्टि से सरकार ने एक महत्त्वपूर्ण निर्णय लेते हुए हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रिक पॉलिसी-2022 को अधिसूचित कर दिया है, ताकि वाहनों से निकलने वाले धुएं को रोक कर वायु प्रदूषण को कम किया जा सके। 30 नवंबर, 2021 को प्रदेश मंत्रिमंडल से नई इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी को मंजूरी मिलने के बाद 10 जनवरी, 2022 को राज्यपाल ने भी नई नीति को अधिसूचित कर दिया है। पॉलिसी के तहत हिमाचल प्रदेश को इलेक्ट्रिक वाहनों का हब बनाया जाएगा और वर्ष 2025 तक बहुत सभी कैटेगरी के इलेक्ट्रिक वाहनों का राज्य में उत्पादन भी होगा। प्रदेश सरकार ने वर्ष 2025 तक 15 फीसदी इलेक्ट्रिक वाहन पंजीकृत करने का लक्ष्य तय किया है तथा प्रदेश के चार शहरों शिमला, मंडी, बद्दी और धर्मशाला को इलेक्ट्रिक व्हीकल टाउन बनाने का प्रस्ताव है। नई इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी के तहत हिमाचल प्रदेश में विशेष इलेक्ट्रिक व्हीकल पार्क स्थापित किए जाएंगे तथा 15 हजार फोर व्हीलर, 50 हजार टू व्हीलर और 500 थ्री व्हीलर इलेक्ट्रिक वाहन बनाए जाएंगे। इलेक्ट्रिक वाहन बनाने के लिए राज्य में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स तैयार की जाएंगी। इलेक्ट्रिक वाहनों की डिमांड बढऩे से ज्यादा उद्योग खोले जाएंगे, जिससे रोजगार के अवसर पैदा होंगे। इलेक्ट्रिक वाहन इस्तेमाल करने वालों की सुविधा के लिए नेशनल हाई-ञ्वे और स्टेट हाई-वे पर 25 किलोमीटर के दायरे में इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन बनाए जाएंगे और बिजली बोर्ड इन्हें पावर सप्लाई प्रदान करेगा। सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों पर प्रति किलो वाट के हिसाब से सबसिडी तय करेगी। यही नहीं, ईंधन पर चलने वाले पुराने वाहनों को भी इलेक्ट्रिक वाहनों में तबदील किया जा सकेगा, जिसके लिए प्रोत्साहन राशि मिलेगी। इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी अगले पांच साल तक लागू होगी तथा राज्य सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर सड़क टोकन टैक्स में छूट देगी। हाई-वे पर भी राज्य और बाहरी प्रदेशों के इलेक्ट्रिक वाहनों से टोल टैक्स नहीं लिया जाएगा। इसके अलावा वाणिज्यिक परमिट फीस में केंद्रीय भूतल परिवहन एवं उच्च मार्ग मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार छूट दी जाएगी। यह अभियान राज्य के सभी प्रमुख इलेक्ट्रिक वाहन हितधारकों के लिए शुरू किया जाएगा, जिनमें इलेक्ट्रिक वाहन डीलरशिप, उपभोक्ता और वित्तीय संस्थान शामिल हैं।

इलेक्ट्रिक व्हीकल पार्क बनेगा

नई इलेक्ट्रिक वाहन नीति के तहत राज्य सरकार एक इलेक्ट्रिक व्हीकल पार्क तैयार करेगी, जो कि 100-200 एकड़ में बनाया जाएगा। राज्य औद्योगिक नीति के तहत पर्याप्त बुनियादी ढांचे, सामान्य सुविधाएं और आवश्यक बाहरी बुनियादी ढांचों के साथ इलेक्ट्रिक वाहन पार्क विकसित किया जाएगा। 120 वोल्ट से कम बैटरी पैक्स वाले वाहन लाइट इलेक्ट्रिक व्हीकल की श्रेणी में आएंगे, जबकि 500 वोल्ट से ज्यादा क्षमता वाले हेवी इलेक्ट्रिक वाहन कहलाएंगे। बसों में भी इतनी ही क्षमता होगी। ई-स्कूटर में 50 किलोमीटर तक चलने के बैकअप वाली इनबिल्ट बैटरी होगी। इसके साथ एक अतिरिक्त बैटरी 50 किलोमीटर तक चलने वाली होगी।

जागरूकता पर विशेष जोर

सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता अभियान भी शुरू करेगी। यह अभियान राज्य के सभी प्रमुख इलेक्ट्रिक वाहन हितधारकों के लिए शुरू किया जाएगा, जिनमें इलेक्ट्रिक वाहन डीलरशिप, उपभोक्ता और वित्तीय संस्थान शामिल हैं।

सरकार का लक्ष्य

परिवहन मंत्री विक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि नई नीति के तहत राजकोषीय और गैर-राजकोषीय प्रोत्साहनों के प्रावधान के माध्यम से इलेक्ट्रिक व्हीकल की मांग को बढ़ावा दिया जाएगा। सार्वजनिक परिवहन और सरकारी संस्थाओं से शुरू होकर तथा संस्थागत स्तर पर भी इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को चरणबद्ध ढंग से अनिवार्य किया जाएगा। सरकार का मकसद इलेक्ट्रिक वाहन निर्माण और अनुसंधान एवं विकास पारिस्थितिकी तंत्र के लिए निवेश आकर्षित करना है। राज्य नई इलेक्ट्रिक व्हीकल नीति के प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए एक अलग सचिवालय तैयार करेगा।

विद्युत बोर्ड बनेगा नोडल एजेंसी

वाहनों को बिजली से चार्ज करने के आधारभूत ढांचे को तैयार करने के लिए बिजली बोर्ड को नोडल एजेंसी बनाया गया है। एक वर्ग किलोमीटर के ग्रिड में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन बनाया जाएगा। शिमला, मंडी, बद्दी और धर्मशाला शहर में एक-एक ऐसे जोन तैयार किए जाएंगे, जहां पर गाडिय़ों से गैसों का शून्य उत्सर्जन हो। जहां केवल पैदल चलना, साइकिल पर चलना या इलेक्ट्रिक वाहन में चलना ही मान्य होगा।

बिल्ट इन बैटरियां घर पर करें चार्ज

इलेक्ट्रिक गाडिय़ां सरकारी उपयोग के साथ-साथ टैक्सी कार के रूप में उपयोग की जाएंगी। बिल्ट इन बैटरियों को रात में घर पर ही चार्ज किया जा सकता है और रोजाना लगभग 80-100 किलोमीटर की दूरी तक प्रयोग में लाई जा सकती है। शहरों, राष्ट्रीय राजमार्गों तथा राज्य राजमार्गों पर एक्सटेंशन बैटरी के लिए फास्ट चार्जिंग स्टेशन के साथ-साथ स्वैपिंग स्टेशन भी स्थापित किए जाएंगे।

Related posts

सतलुज सेवा ट्रस्ट के बैनर तले विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया

Editor@Admin

मुख्यमंत्री जयराम ने यूक्रेन में फंसे छात्रों से की बात, दिया मदद का भरोसा

Editor@Admin

जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष आशीष ठाकुर ने प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर उठाये सवालिया निशान

Editor@Admin

Leave a Comment